गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

सफर में किन्नर और न्यू ईयर

साल का आखिर दिन 31 दिसंबर सुबह 12 बजे का समय मुरैना रेलवे स्टेशन पर खड़ी ताज एक्सप्रेस ने सीटी मारी.. सीटी की आवाज सुनकर प्लेटफार्म पर टहल रहे यात्रियों में भगदड़ मच गई और वह दौड़ कर गाड़ी में जा बैठे।
मैं भी उन यात्रियों में शामिल था,वैसे मेरा प्रतिदिन ही मुरेैना से ग्वालियर आना-जाना होता है। मैं अपने एक साथी के साथ ताज एक्सप्रेस के एक डिब्बे में जा बैठा। गाड़ी की धीरे-धीरे रफ्तार बढ़ रही थी, डिब्बे में ज्यादा भीड़भाड़ नहीं थी, डिब्बे में मौजूद यात्री आराम से सीटों पर लेटकर सफर कर रहे थे,उनमें कुछ विदेशी यात्री भी थे, जो शायद आगरा से सवार हुए थे। कुछ यात्रियों के बच्चे डिब्बे में मौजमस्ती कर रहे थे,तभी वहां जोर-जोर से तालियोंं की आवाज गूंजने लगी। फिर क्या था डिब्बे में सवार सभी यात्रियों का ध्यान उस ओर चला गया।
तालियां बजाने वाले कौन थे,यह बताना जरूरी नहीं सभी जानते हैं वह कौन हो सकते है। तालियां बजाना उनका पेशा है किसी के घर में कोई शुभ कार्य हो वहां उनका आना न हो ऐसा हो ही नहीं सकता। हां आप ठीक समझे यह लोगों कोई और नहीं हिजड़े (किन्नर)थे। सपना और कविता नाम के यह दोनों हिजड़े डिब्बे में फिल्मी गीत गाकर यात्रियों से नववर्ष के नाम पर पैसे मांग रहे थे। इनके पैसे मांगने के तरीके को यदि आप देखते तो आश्चर्यचकित हो जाते उनकी आवाज में ऐसा जादू था कि हर कोई पलट-पलट कर उनकी ओर देख रहा था। वह कभी धड़कन फिल्म का गीत गाते थे तो कभी कर्मा फिल्म का जिसके बोल थे...
बड़े दिनों के बाद मिली है यह दारू..
यहां तक तो सब सामान्य था,लेकिन जब सपना नाम का हिजड़ा एक विदेशी यात्री के पास पहुंचा और उसने उससे अंग्रेजी में पूछा
वॉट इज यूअर नेम..
यह सुनकर डिब्बे में सन्नाटा खिंच गया और सभी यात्री सपना की ओर देखने लगे फिर क्या था उस विदेशी यात्री और सपना के बीच अंग्रेजी में जो वार्तालाप हुआ वह सभी को आश्चर्यचकित करने वाला था, हम जिन हिजड़ों को इंसान का दर्जा देने से कतराते हैं और उन्हें घृणाभरी नजरों से देखते हैं, उन्होंने यह दिखा दिया कि वह भी अच्छी अंगे्रजी बोल कर देश का गौरव बढ़ा सकते हैं।
जब डिब्बे में सवार एक दंपति ने सपना को अपनी कोई समस्या बताई तो उसने उन्हें एक परिपक्व बुजुर्ग की भांति कुछ देसी टिप्स दिए और कहा ऐसा कर देना सब ठीक हो जाएगा।
यह सब देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपने साथी के साथ उनके पास जा पहुंचा। हमारे पूछने पर सपना और कविता ने बताया कि वह धौलपुर से ग्वालियर के बीच ताज एक्सप्रेस में इसी तरह लोगों का मनोरंजन करते हैं। और कल नया साल है इसलिए आज हम, लोगों से नववर्ष की इनाम मांग रहे हैं और भगवान से दुआ कर रहे हैं कि नया साल सभी के लिए खुशहाली लेकर आए, देश में अमन शांति रहे, भ्रष्टाचारी नेताओं का नाश हो..
अंत में सपना और कविता ने सभी को हैप्पी न्यू ईयर कहा और गाड़ी से उतर गए।

3 टिप्‍पणियां:

niharika ने कहा…

vakai hrday ko chhu jaane vala yatra vratant.

niharika ने कहा…

vakai hrday ko chhu jaane vala yatra vratant.

lokendra singh rajput ने कहा…

sahi kaha koi heen ya deen nahi hota.... ab unke sharir ki rachana to ishwar ne ki hai... baki wo bhi hum jaisa hi mastishk or khoobsurat dil rakhte hai... unki dua kabool ho is desh ke bhrasht neta kisi sade nale me doob mare....